Category: Suvichar

0

शांति प्राप्त करने का सरल उपाय

शांति प्राप्त करने का सरल उपाय जल से लबालब भरे हुए समुद्र में नदियों द्वारा लगातार जल डालते रहने पर भी जिस तरह समुद्र विचलित नहीं होता, ठीक उसी प्रकार जिस व्यक्ति में कामनाएँ...

0

निकम्मापन पतन का कारण बनता है

निकम्मापन, व्यक्ति को अंततः चरित्रहीन बना देता है. क्योंकि निकम्मा व्यक्ति अपनी जरूरत या इच्छा को पूरी करने के लिए किसी भी हद तक गिर जाता है. → निकम्मापन पतन का कारण बनता है.

0

अगर दिलों के बीच नजदीकी हो, तो जहाँ रिश्ता न हो

अगर दिलों के बीच नजदीकी हो, तो जहाँ रिश्ता न हो, वहाँ भी रिश्ता खुद ब खुद बन जाता है, और जहाँ दिलों के बीच फासला हो वहाँ रिश्तों की नजदीकी भी अर्थहीन साबित...

0

जो लोग बुरे लोगों के प्रति निष्ठा रखते हैं

जो लोग बुरे लोगों के प्रति निष्ठा रखते हैं, उन लोगों के प्रति निष्ठा रखना मूर्खता है. और लोग अक्सर ऐसी मूर्खता शान से करते हैं, और अपनी मूर्खता का बखान भी उतनी हीं...

0

वैसा व्यक्ति जिसके पास दौलत और शोहरत हो

वैसा व्यक्ति जिसके पास दौलत और शोहरत हो… वह व्यक्ति भले ही चरित्रहीन क्यों न हो, लोगों को उसमें कोई कमी नजर नहीं आती है. ऐसे लोग चाटुकार होते हैं.

0

जर्जर चीजों का स्वतः टूटना हीं प्रकृति का नियम है

कई बार उलझे हुए और जर्जर हो चुके रिश्तों का टूट जाना जरूरी होता है, ताकि  नए रिश्ते बुने जा सकें और जिंदगी की उलझनें सुलझ सकें. → जर्जर चीजों का स्वतः टूटना हीं...

0

उदार होने का मतलब यह नहीं होता है कि आप बुरे लोगों के प्रति भी उदार हो जाएँ

उदार होने का मतलब यह नहीं होता है कि आप बुरे लोगों के प्रति भी उदार हो जाएँ. बुरे लोगों के प्रति उदारता तो मूर्खता है.

0

बुरे व्यक्ति के प्रति अपने जीवन को समर्पित कर देने से कहीं अच्छा है

बुरे व्यक्ति के प्रति अपने जीवन को समर्पित कर देने से कहीं अच्छा है, विद्रोह कर देना. और अगर विद्रोह करने की शक्ति न हो, तो आत्महत्या कर लेना उत्तम विकल्प है.